CPC, CTR, CPM, CPA और RPM क्या होता है? Adsense से जुड़े शब्दों की पूरी जानकारी

अगर आप Google Adsense या फिर किसी भी Ad Network का इस्तेमाल करते है, तो आपने CPC, CTR, RPM, आदि शब्दों के बारे में जरूर सुना होगा। Google Adsense विश्व का सबसे बड़ा Advertisement Platform है। इसे दुनिया भर के कई Advertiser और Publisher इस्तेमाल करते है। आज हम आपको Google Adsense के उन सभी terms के बारे में बताएंगे जिसे समझने में आपको परेशानी होती है। इस आर्टिकल में  बताए गए शब्दों को आप Adsense के साथ और भी कई प्लेटफार्म पर देख पाएंगे।

ये भी पढ़ें: Ads.txt क्या होता है? Ads.txt File कैसे Add करें? इसके क्या फायदे है?

Google Adsense common terms in Hindi

CPC (Cost Per Click):

cpc kya hota hai
CPC का फुल फॉर्म Cost Per Click होता है। यह अक्सर banner ads के लिए use की जाती है। CPC Ads के अंतर्गत सबसे पहले Advertisers प्लेटफार्म पर अपने Ads के साथ register करते है। इन Ads को Publishers अपने blogs पर लगाते है। अब जब भी कोई visitor इन Ads पर click करता है, तो प्रति क्लिक (per click) के हिसाब से Publisher को पैसे मिलते है।

CPC = Total Amount Spend on Ads / No. of clicks measured

CPC पूरी तरह Keywords पर निर्भर करती है। अगर किसी कीवर्ड पर कई लोग काम कर रहे है, तो उस कीवर्ड में competition ज्यादा होगा और अंततः CPC भी काफी बढ़ जायेगा। ठीक उसी तरह जब Low competition keywords की CPC भी अक्सर कम होता है। हालांकि इस theory से आपको CPC का मतलब समझ में आ जाएगा, पर real-life में जरुरी नहीं है कि यह theory हमेशा सच हो।

मेरा कहने का मतलब है कि bloggers और digital marketers अक्सर ऐसे keywords की तलाश में रहते है जिसमे competition कम और जिसका CPC ज्यादा हो। अगर आपने भी कोई new blog शुरू किया है तो आपको keyword research करना आना बहुत जरुरी है। इस तरह आपके Keywords जल्दी Google पर rank होंगे और आपकी earning शुरू होगी।

CPA (Cost Per Action or Acquisition):

CPA का फुल फॉर्म Cost Per Action या फिर Cost Per Acquisition होता है। यह एक targeted advertisement tool है जिसे affiliate marketing, product sales, आदि के लिए use किया जाता है। अगर आपके blogs पर लगे Ads CPA पर काम कर रहे है, तो आपकी earning तभी होगी जब visitors उन Ads पर click करके action पूरा करें।

अब यह action कुछ भी हो सकता है जैसे – product खरीदना, newsletter signup करना, registration करना, inquiry form भरना, आदि। CPA के through अच्छी earning करने के लिए आपकी वेबसाइट पर targetted ट्रैफिक होना जरुरी है। मेरे कहने का मतलब है कि अगर आपने Fashion पर blog बनाई है, और आपके ब्लॉग पर ऐसे लोग आ रहे है जिनकी technology में रूचि है, तो आपकी अच्छी earning नहीं होगी। आपको अपने blog पर fashion में interest रखने वाले लोगो को लाना है। इस तरह वे लोग Ads पर क्लिक करेंगे, action पूरा करेंगे और आखिरकार आपकी earning भी अच्छी होगी।

जरूर पढ़े: Dofollow और Nofollow Links क्या है? इन दोनों में अंतर है?

CTR (Click Through Rate):

ctr kya hai

CTR का मतलब Click Through Rate होता है। इस term को आपने Google Adsense के अलावा Google Analytics, YouTube Analytics, आदि कई जगहों पर देखा होगा। हालांकि CTR का मतलब हर जगह सामान्य ही होता है, यहाँ आप Adsense से जुड़े शब्दों में इसका अर्थ समझेंगे। सबसे पहले जानते है कि CTR कैसे कैलकुलेट किया जाता है:

CTR = (Total Number of Clicks / Total Number of Impressions) x 100

CTR को total clicks और total impressions की मदद से calculate किया जाता है। CTR की वैल्यू Advertiser और Publisher दोनों के लिए महत्वपूर्ण होती है। इसकी मदद से Advertisers को पता चलता है कि उनके Ads के तरफ कितने लोग रूचि दिखा रहे है, उनका ads कितनी अच्छी तरह से perform कर रहा है, आदि। वहीं अगर Publisher की बात करें तो CTR से हम पता करते है कि हमने Ads Placement सही किया है या नहीं। अगर आपके blog पर बहुत अच्छा traffic है, पर Ads पर क्लिक काफी कम लोग करते है तो आप Adsense में CTR की value देख कर Ad placement सुधार सकते है।

Google Adsense में हम दो तरह के CTR Value देखते है। पहला Page CTR और दूसरा Impression CTR.

Page CTR और Impression CTR:

Page CTR: पूरे Page के click-through rate को Page CTR कहते है। इसका value पेज पर लगे सभी Ads को ध्यान में रख कर calculate की जाती है।

Impression CTR: हर एक Ads के click-through rate को impression CTR कहते है।

अगर आपने वेबसाइट के किसी page पर 3 Ads लगा रखे है और कोई visitor उनमे से किसी एक Ad पर क्लिक करता है, तो इससे Page CTR और उस particular ad का impression CTR दोनों प्रभावित होगा। इस वजह से आपको Page CTR का value अक्सर ज्यादा दीखता है।

अब मान लीजिए आपके किसी पेज पर 3 Ads लगे हुए है जो हर वक़्त load होते है। एक दिन में आप ये सारे आकड़ें प्राप्त करते है:

  • 1000 Page Views
  • 3000 Ad Impressions
  • 10 Clicks

अब ऊपर बताए गए CTR formula का use करते हुए:

Page CTR = (10 / 1000) x 100 = 1%

Impression CTR = (10 / 3000) x 100 = 0.33%

इन दोनों values को calculate करते वक़्त ध्यान रखे कि ज्यादातर Page पर लगे सभी Ads एक साथ display नहीं होते। इसलिए Page CTR और Impression CTR की वैल्यू ऊपर-निचे भी हो सकती है।

RPM (Revenue Per Mile):

rpm kya hota hai

RPM का फुल फॉर्म Revenue Per Mile या Revenue Per Thousand Impressions  होता है। यह एक Adsense का reporting term है। RPM से Publishers को पता चलता है कि per 1000 page views या Impressions के लिए उन्हें कितने पैसे मिलेंगे। Adsene में आपने दो तरह के RPM देखे होंगे – पहला Page RPM और दूसरा Impression RPM.

Page RPM:

Page RPM आपके estimated earning को total page views से divide कर, फिर 1000 से multiply कर calculate किया जाता है।

Page RPM = (Estimated earnings / Total page views) x 1000

उदाहरण के तौर पर मान लीजिए आपने 25 page views से लगभग $0.15 earning की, तो आपके blog का Page RPM ($0.15 / 25) x 1000 = $6.00 होगा।

Impression RPM:

Impression CTR की तरह ही Impression RPM calculate करते वक़्त Ad Impressions को ध्यान में रखा जाता है। Impression RPM प्रति 1000 Ads Impressions से होने वाली average earning बताता है।

Impression RPM = (Estimated earnings / Total impressions) x 1000

CPM (Cost Per Mile):

अक्सर लोग RPM और CPM के बिच confuse हो जाते है और गलत reports बना देते है। हालांकि इन दोंनो का मतलब एक है, पर RPM को Publishers के लिए use किया जाता है और CPM को Advertisers के लिए।

CPM का फुल फॉर्म Cost Per Mile या Cost Per Thousand Impressions होता है। यह Google Ads (पहले Google AdWords) का एक reporting term है। CPM से Advertisers को पता चलता है कि प्रति 1000 Ads Impressions के लिए उन्हें कितने पैसे देने होंगे।

RPM की बात करें तो यह Google Adsense का reporting term है। इससे Publishers को पता चलता है कि प्रति 1000 Impressions पर उन्हें कितने पैसे मिलेंगे।

ये भी पढ़ें: WordPress.com और WordPress.org में क्या अंतर है?

मुझे उम्मीद है आपको इस आर्टिकल में बताई गयी जानकारी पसंद आई होगी। CPC, CTR, CPA, RPM, आदि जैसे और भी कई terms है जिनका इस्तेमाल Advertisement platforms पर होता है। इस आर्टिकल में मैंने Google Adsense से जुड़ी आपकी उलझने दूर करने की कोशिस की है। अगर आपके मन में Google Adsense से जुड़ा कोई भी सवाल है तो निचे कमेंट में जरूर पूछे। हम उनका जवाब देने की पूरी कोशिस करेंगे, और आर्टिकल पसंद आया तो दोस्तों से शेयर करना न भूलें।

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *